ऊर्जा सरंक्षण.

अन्वेषण करना

ऊर्जा सरंक्षण

हमारी कंपनी का ऊर्जा दक्षता, ईंधन की खपत, फ्लेयर लॉस और फर्नेस/बॉयलर प्रदर्शन के क्षेत्रों में निरंतर ध्यान ऊर्जा खपत को काम करने के प्रवासो की मान्यता में सीहाचटी एम् ओ पी एंड एन जी द्वारा "बॉयलर्स और फर्नेस दक्षता" के लिए सीपीसील को विजेता घोषित किया गया हैं | रिफाइनरी तकनीकी बैठक में अप्रैल 2017 को आयोजित | लागू किए गए कुछ प्रमुख ऊर्जा संरक्षण उपाय इस प्रकार हैं:

  • रिफाइनरी ऑफ गैसों से हाइड्रोजन निकालने के लिए 6 बेड 8 बेड से प्रेशर स्विंग सोखना ( पी इस ए ) यूनिट में सुधार
  • ल्यूब एरोमैटिक एक्सट्रैक्शन यूनिट में प्री-हीट सुधार के लिए प्रोपेन डी-एस्फाल्टिंग यूनिट में पिंच टेक्नोलॉजी को अपनाना।
  • डीजल हाइड्रो-डीसल्फराइजेशन यूनिट (डीएचडीएस) में हॉट सेपरेटर की स्थापना
  • डीजल हाइड्रो-ट्रीटिंग यूनिट (डीएचडीटी) के लिए अशुद्ध हाइड्रोजन (नेट गैस) का रूटिंग
  • क्रूड डिस्टिलेशन यूनिट-II एयर प्रीहीटर का प्रतिस्थापन
  • डीएचडीटी इकाई में वाल्व ट्रे को उच्च क्षमता वाली ट्रे से बदलकर डीजल स्ट्रिपर में स्ट्रिपिंग स्टीम का अनुकूलन।
  • आई एस ओ एम् यूनिट नेफ्था स्ट्रीम (सी 7+) को सी सी आर में हॉट फीड सक्षम प्रीहीट सुधार के रूप में रूट करना।
  • फ्लेयरिंग को कम करने के लिए हाइड्रोजन प्रवाह के ठीक नियंत्रण के लिए छोटे आकार के नियंत्रण वाल्व की स्थापना को लागू किया गया था।
  • फ्लेयरिंग को कम करने के लिए दो रिफाइनरी ब्लॉकों के बीच ईंधन गैस नेटवर्क के इंटरकनेक्शन को हाइड्रोलिक रूप से बढ़ाया गया था।
  • दो अमीन पुनर्जनन इकाइयों के बीच अमीन इंटरकनेक्शन करके भाप की खपत का अनुकूलन।
  • सीसीआर यूनिट के ओबीएसजी से बेहतर हीट रिकवरी।
  • एलपीजी की वसूली के लिए क्रूड यूनिट स्टेबलाइजर ऑफ गैसों को एफसीसीयू वेट गैस कंप्रेसर में रूट करना।
  • ओएचसीयू, सीसीआरयू और आईएसओएम इकाइयों से एचजीयू रिफॉर्मर फीड के लिए फीड स्ट्रीम ऑप्टिमाइजेशन किया गया, जिससे पीडीएस यूनिट के संचालन में ऊर्जा की खपत कम हुई।